बंद करे

स्थानीय

चित्र उपलब्द नहीं है

सीधी पर्यटन लोगो प्रतोगिता (अंतिम दिनाक 18/10/2020)

पबलिश्ड ऑन: 15/10/2020

लोगो‌ डिजाइन प्रतियोगिता सीधी जिले में पर्यटन को बढ़ावा‌ देने की दृष्टि से जिले के लिए एक पर्यटन कार्य योजना तैयार की जा रही है। इस कार्य योजना के अंग‌ के रूप में सीधी जिले के लिए एक लोगो डिजाइन किया जाना है। इसमें सभी नागरिकों की सहभागिता के विचार से “जिला पुरातत्व एवं पर्यटन […]

और
चित्र उपलब्द नहीं है

सोन घड़ियाल अभ्यारण्य

पबलिश्ड ऑन: 05/09/2020

सोन घड़ियाल अभयारण्य प्रोजेक्ट क्रोकोडाइल के अंतर्गत घड़ियाल संरक्षण व जनसंख्या वृद्धि हेतु स्थापित किया गया। सोन नदी का 161 किमी, 23 किमी बनास नदी व 26 किमी गोपद नदी का क्षेत्र मिलाकर कुल 210 किमी क्षेत्र को 1981में अभयारण्य के रूप में घोषित किया गया। रेतीले पर्यावास (जैसे रेतीले तट, नदी द्वीप आदि) अनेक […]

और
अरहर

अरहर दाल

पबलिश्ड ऑन: 25/07/2019

सीधी में अरहर की दाल का प्रमुख उत्पादन होता है |

और
रिकमछ

रीकमच की सब्जी

पबलिश्ड ऑन: 25/07/2019

रीकमच की सब्जी मध्य प्रदेश में रीवा जिला की स्पेशल डिश मानी जाती हैं, और सादी विवाह में बनाई जाती है। अगर सादी में छप्पन भोग भी बना है तब भी ये सब्जी के बिना अधूरा है ये सब्जी खाने में बहुत स्वादित लगती है और बनाने में आसान भी है।

और
परसिली रेस्ट हाउस

परसिली रिसॉर्ट

पबलिश्ड ऑन: 02/01/2018

परसिली रिसॉर्ट, जो मझौली तहसील के पास सीधी मुख्यालय से 60.0 किमी (37.3 मील) दूर है | जिले के मझौली विकासखंड में बनास नदी के तट पर स्थित पर्सिली रिसॉर्ट रेतीले तटों और हरियाली का सुन्दर दृश्य समेटे हुए है। यह संजय राष्ट्रीय उद्यान व टाइगर रिज़र्व के प्रारम्भ बिंदु पर स्थित है व बालू […]

और
संजय टाईगर रिजर्व के हिरण

संजय-दुबरी राष्ट्रीय उद्यान व टाइगर रिजर्व

पबलिश्ड ऑन: 02/01/2018

जिले के जैव-विविधतापूर्ण वन क्षेत्र को संरक्षित करने की दृष्टि से संजय-दुबरी राष्ट्रीय उद्यान व टाइगर रिजर्व की स्थापना 1975 में की गई। सदाबहार साल वनों का यह क्षेत्र 152 पक्षी, 32 स्तनधारी, 11 सरीसृप, 3 उभयचर व 34 मत्स्य प्रजातियों समेत अनेक जीवों विशेषकर बाघों का आश्रयस्थल है। सफेद बाघों में सबसे प्रथम बाघ […]

और